• एमडीएल गान
Your Language:
  • English(English (United States))
  • Hindi (हिंदी (भारत))
  • सीएसआर और एसडी

सीएसआर और एसडी

कारपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्‍व एवं निवार्ह गतिविधियाँ:

एमडीएल अपने नीतिपरक व्‍यवहार से कारपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्‍व (सीएसआर) को हमेशा निभाती आई है । देश के आर्थिक विकास में योगदान किया है जिससे क्षेत्रीय समुदायों एवं समाज के अलावा उनके परिवारों में स्‍वतंत्रता एवं जीवन में कार्य करने की गुणवत्‍ता में प्रगति हुई है ।

एमडीएल की कारपोरेट सामाजिक उत्‍तरदायित्‍व एवं निर्वाह नीति का विजन एवं मिशन सहित निम्‍न है:

विजन:

वृद्धि एवं योजनाओं के साथ समाज में प्रभाव लाने के लिए स्‍थायी रूप से एकीकृत सामाजिक एवं व्‍यावसायिक लक्ष्‍यों का कार्यक्रम बनाना ।

मिशन:

एमडीएल विशिष्‍ट रूप से लोगों पर एवं स्‍वतंत्र रूप से समाज दोनों को प्रत्‍यक्ष प्रभावित करने हेतु, सामाजिक-आर्थिक उन्‍नति के विकासशील गतिविधियों को बनाये रखने के लिए प्रतिबद्ध है ।

माझगांव डॉक शिपबिल्‍डर्स लिमिटेड में सीएसआर गतिविधियों की शुरूआत

माझगांव डॉक शिपबिल्‍डर्स लिमिटेड ने 2010-11 में लोक उद्यम विभाग, भारी उद्योग एवं लोक उद्यम मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा दिये गये दिशा – निर्देशों के अनुसार आरंभ किया है, जो कि समय – समय पर संशोधित होते रहें हैं। कम्‍पनी अधिनियम में संशोधन के बाद एमडीएल द्वारा कम्‍पनी अधिनियम 2013 की धारा 135 के प्रावधान को अपनाना है। सभी सीएसआर गतिविधियाँ नियम की अनुसूची VII के अनुसार पूरा किया जाता है ।

सीएसआर गतिविधियों के लिए सार्थक रूप से खर्च की रकम वित्‍तीय वर्ष 2010 -11 के 43.50 लाख से बढ़ाकर वर्ष 2015 - 16 में 1166.00 लाख कर दिया गया है ।

एमडीएल ने सीएसआर गतिविधियों में अपनी शाखाओं को मुम्‍बई से ग्रामीण क्षेत्र एवं भारत के बहुत से राज्‍यों में फैलाया है ।

मराठवा़ड़ा के सूखा प्रभावित क्षेत्रों के लिए परियोजना – जिला बीड

एमडीएल ने सूखा प्रभावित क्षेत्रों में किये जाने वाले गतिविधियों की जरूरतों को पूरा करने के लिए महाराष्‍ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र के बीड जिला हेतु एक परियोजना बनाई है। बीड जिला के पटोडा तहसील के गाँव की पहचान की गई एवं सीएसआर परियोजना के द्वारा निम्‍नलिखित गतिविधियाँ पूरे किए जा रहे हैं:

  • मई से मध्‍य जून 2016 तक मवेशियों के लिए चारा एवं खादय पोषक प्रदान किया है एवं 15,000 किलोग्राम खाद्य पदार्थ वितरित किया है।
  • कुआँ /तालाब/ नाला के गाद की सफाई द्वारा जल संग्रहण स्रोत को बढ़ाने हेतु एवं अतिरिक्‍त जल स्रोतों को तैयार करने के लिए, सफाई कार्यो की शुरूआत पहले से ही की गई है।
  • विभिन्‍न प्रकार के पौधे जैसे पपीता, सैजन, बाँस, आम, सागैन, कागजी नीबू, नीम, जामुन, बेर एवं सीताफल इत्‍यादि के लगभग 50, 000 पौधों का वृक्षारोपण करना है जिसमें पहले चरण में 33000 पौधे 15 अगस्त 2016 अगस्‍त तक लगाए गए है।
  • स्‍थानीय किसानों के जीविकोपार्जन की व्‍यवस्‍था हेतु एवं स्‍व-रोजगार के लिए माध्यमों की पहचान की गई है।

सीएसआर के इस पहल से लगभग 1000 किसानों एवं उनके परिवार सदस्यों और 1500 मवेशियों को लाभ हुआ है। यह परियोजना तीन वर्षों में पूरी की जाएगी।

  • Manure Distribution in Cattle camp at Rohatwadi, Patoda Tehsil, Beed Districtरोहतवाडी, पटोदा तहसील, जिला बीड के मवेशी कैंप में खाद वितरण
  • Initiation of Tree plantation at Parner, 
Patoda Tehsil, Beed District on 2 May’162 मई 16, को पार्नर पटोदा तहसील में वृक्षारोपण की शुरूआत
  • Desilting of Village well in Parner, 
Patoda Tehsil, Beed District (Before)पहले/ पारर्नर, पटोदा, तहसील जिला बीड में गाँव के कुओं का गाद निकालना
  • Desilting of Village well in Parner, 
Patoda Tehsil, Beed District (After)बाद में / पारर्नर, पटोदा, तहसील जिला बीड में गाँव के कुओं का गाद निकालना
  • Deweeding and desiltation of village pond (Before)पहले/गाँव के कुओं का डिवीडिंग एवं डेसीलेशन
  • Deweeding and desiltation of village pond (After) बाद में /गाँव के कुओं का डिवीडिंग एवं डेसीलेशन
आदर्श ग्राम विकास - खेरडे ग्राम पंचायत, शाहपुर तहसील, ठाणे जिला

एमडीएल ने सीएसआर परियोजना के अंतर्गत, ठाणे जिला के शाहपुर तहसील के खेरडे ग्राम पंचायत को माननीय प्रधान मंत्री के 'आदर्श ग्राम' निर्माण आह्वान पर उसके सम्पूर्ण विकास के लिए गोद लिया गया है। खेरडे ग्राम पंचायत के अंतर्गत दो गाँव जैसे चंदगांव और खराडे एवं 10 पाड़ा हैं जिनकी कुल आबादी 3008 है ये लोग कुल 590 घरों में रहते हैं। इन पाड़ाओं में रहने वाले लोग मूलतः आदिवासी समुदाय के हैं और सामान्य जीवन जीने के मूल जरूरतों की कमी से महरूम हैं ।

इस परियोजना की शुरुआत 29 दिसम्बर 2015 को एमडीएल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक,रियर एडमिरल आर के श्रावत, श्री वी गिरिराज, प्रधान सचिव, ग्रामीण विकास, महाराष्ट्र राज्य और अन्य गणमान्य व्यक्तियों के उपस्थिति में हुई।

विकास की आवश्यकताओं में स्वास्थ्य जागरूकता और स्वच्छ भारत मिशन फैलाना, ठोस कचरा प्रबंधन की व्यवस्था करना , किसान क्लब का निर्माण, स्वच्छ पेय जल की व्यवस्था और गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा प्रदान करना, कौशल विकास और नारी सशक्तिकरण इत्यादि शामिल हैं।

दिसम्बर 2015 में एमडीएल ने खेरडे ग्राम पंचायत के गाँवों में 500 सौर ऊर्जा स्ट्रीट लाईट लगाया गया है।

निम्नलिखित कार्यक्रमों को एक मुख्य एनजीओ, कर्वे सामाजिक सेवा संस्थान, पुणे (केआईएनएसएस) के सहायता से 3 वर्ष के भीतर किया जाएगा:

  • जिला परिषद स्कूलों और आंगनवाड़ियों का विकास
  • महाराष्ट्र सरकार के सहयोग से स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रम
  • महाराष्ट्र सरकार के सहयोग से पशु चिकित्सा शिविर
  • स्वच्छ भारत मिशन और ठोस कचरा प्रबंधन कार्यक्रम
  • जीविका हेतु किसान क्लब का निर्माण
  • टायलेट निर्माण और गाँववालों को भागीदारी हेतु जागरूकता
  • स्वच्छ पेय जल का प्रबंध
  • एनजीओ के सहयोग से विशेष शिक्षा कार्यक्रम
  • एनजीओ के सहयोग से स्वास्थ्य, जल और सफाई कार्यक्रम
  • कौशल विकास और व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र
  • ग्रामीण युवकों को पुलिस और रक्षा सेवाओं में भर्ती हेतु स्पोर्ट्स और प्रशिक्षण अकादमी
  • शेनवे गाँव में आईटीआई को अपनाना (ग्रामीण लड़कियों के लिए)
  • एनजीओ के सहयोग से नारी सशक्तिकरण कार्यक्रम
  • एनजीओ के सहयोग से कृषि विकास और वॉटरशेड प्रबंधन प्रणाली कार्यक्रम

3 वर्ष के भीतर रु. 2.36 करोड़ इस परियोजना के लिए खर्च किया जाएगा।

  • MDL-KINNS Community Development and Resource CentreMDL-KINNS Community Development and Resource Centre
  • Solar Street light at ChapyachiwadiSolar Street light at Chapyachiwadi
  • Distribution of bicycles to BPL childrenDistribution of bicycles to BPL children
  • Health Camp at ChanyachapadaHealth Camp at Chanyachapada
  • E-learning at Zilla Parishad SchoolE-learning at Zilla Parishad School
  • Quilt making by Women Self Help GroupQuilt making by Women Self Help Group
  • Farmer’s WorkshopFarmer’s Workshop

For providing safe drinking water to Chaphyachiwadi in Kharade Grampanchayat a 4 km pipeline with pumping system laid till the end-user fresh reservoir at a height of 300 feet

  • HillHill
  • Water line from Reservoir Water line from Reservoir
  • Water reaching village Chaphyachi WadiWater reaching village Chaphyachi Wadi
  • Water point at Village Centre- 
DREAM COME TRUEWater point at Village Centre- DREAM COME TRUE
चंगीयपदा में आदिवासी बालिका विद्यालय को अपनाना, शाहपुर तहसील, ठाणे जिला

एबीएम समाज प्रबोधन संस्था, द्वारा ठाणे जिला के शाहपुर तहसील के खेरडे ग्राम पंचायत के चंगीयपाडा में आवासीय स्कूल की शुरुआत की गई है। अप्रैल 2014 में यह स्कूल पैसों की कमी और प्रशासनिक कारणों के कारण बंद हो गया था। उस समय करीब 80 लड़कियां वहाँ पढ़ रही थी।

यह स्कूल मूल रूप से 'कथकरी' समुदाय के लड़कियों के लिए है, जो सबसे प्राचीन अनुसूचित जनजाति वर्ग में आते है। सरकारी स्कूलों में इन कथकरी समुदाय के कुल संख्या के अनुपात में बच्चों का नामांकन मुश्किल से 2 से 5% के बीच है (यह आंकड़ा अकादमी ऑफ डेव्लपमेंट साइंस रिपोर्ट 2003 के अनुसार है)।

इस समुदाय लोग जीविका के लिए एक स्थान से दूसरे स्थान पर घूमते रहते हैं, उनके बच्चों को प्राथमिक शिक्षा प्रदान करने की दृष्टि से, एमडीएल ने इस स्कूल को गोद लिया है। इस आवासीय स्कूल में लगभग इस समुदाय की 100 लड़कियां पढ़ती हैं। एमडीएल ने वर्ष 2015-16 और 2016-17 में क्रमश: रु. 33 लाख और रु.45 लाख इस आवासीय स्कूल के लड़कियों के लिए खर्च किया है। इस स्कूल में रहने वाले बच्चों के माता-पिता को प्रोत्साहित करने के लिए उनके बच्चों को रु. 100/- प्रति माह इन्सेंटिव दिया जाता है। एमडीएल की पहल से इस स्कूल और इसमें पढ़ रहे बच्चों को नया जीवन मिला है।

  • Adoption Of Tribal Girls School In Changyachapada
  • Adoption Of Tribal Girls School In Changyachapada
स्वस्थ पहल
मुम्‍बई के केर्इएम अस्‍पताल के एनआईसीयू का नवीनीकरण

एमडीएल ने वृहन मुम्‍बई, के केर्इएम हॉस्पिटल का नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (एनआईसीयू) का नवीनीकरण किया है एवं उपकरणों से सुसज्जित किया है। वर्तमान समय में अस्‍पताल आधुनिक उपकरणों से सुसज्जित है। एनआईसीयू के पास बड़ी संख्‍या में उपचार के लिए आनेवाले गरीब शिशुओं के लिए 33 बेड एवं 4 वेनटिलेटर लगाये गये हैं। सरकार द्वारा संचालित अस्‍पतालों में टर्रशियरी हेल्थ सुविधाओं प्रदान करने के लिए बड़ी पहल की गई है। कुल मिलाकर परियोजना में रू 3690.00 लाख खर्च हुए है।

  • Renovation Of NICU At KEM Hospital, Mumbai
  • Renovation Of NICU At KEM Hospital, Mumbai
  • Renovation Of NICU At KEM Hospital, Mumbai
  • Renovation Of NICU At KEM Hospital, Mumbai
20 बधिर बच्चों के लिए कोचलियर इंप्लांट सर्जरी प्रदान की गई है

एमडीएल ने मेसर्स आर्टिफिसियल लिम्ब मैनुफैक्चरिंग कंपनी लिमिटेड (एलीमको) के सहयोग से गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले 20 बधिर बच्चों के लिए कोचलियर इंप्लांट सर्जरी में मदद किया है जिसमें कुल रु.133.68 लाख खर्च हुए है। इस परियोजना का आरंभ जनवरी 16 से हुआ और अब तक 16 सर्जरी पूरी की गई है।

रायगढ़ और ठाणे जिले के जरूरतमन्द व्यक्तियों के लिए 5000 मोतियाबिन्द ऑपरेशन लक्ष्मी चैरिटबल ट्रस्ट, पनवेल, महाराष्ट्र के सहयोग से कराया गया है

जरूरतमन्द 5000 व्यक्तियों का मोतियाबिन्द ऑपरेशन लक्ष्मी चैरिटबल ट्रस्ट, पनवेल के सहयोग किया गया है जिसमें लगभग रु. 150 लाख खर्च का अनुमान है। यह सर्जरी मई 2016 से अप्रैल 2017 की अवधि में पूरी की जाएगी। आगे, एमडीएल इस ट्रस्ट के ऑपरेशन कॉम्प्लेक्स के नवीनीकरण और ओपथलमिक उपकरणों की खरीद के लिए भी सहयोग करेगी।

  • Support to 20 Hearing Handicapped Children
  • Support to 20 Hearing Handicapped Children
कौशल विकास - कुशल भारत

कंपनी द्वारा चालित प्रशिक्षु प्रशिक्षणशाला (एटीएस) के माध्यम से कौशल विकास :

  • अ) पहले एमडीएल 425 प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षण प्रदान किया था लेकिन अब इसकी संख्या बढ़कर 625 प्रति वर्ष हो गया है। 200 प्रशिक्षुओं के प्रशिक्षण के लिए रु. 600 लाख खर्च किया जा रहा है ये प्रशिक्षु गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले और पिछड़े वर्ग समुदाय से संबन्धित हैं।
  • ब) आईटीआई और व्यावसायिक प्रशिक्षण केन्द्रों के माध्यम से कौशल विकास :
    • i) महाराष्ट्र के अमरावती जिला, के आईटीआई चिकलधारा को गोद लिया गया है। एमडीएल 300 प्रशिक्षुओं को सहयोग करेगी, जिसमें उपगत कुल खर्च लगभग रु. 150 लाख प्रति वर्ष होगा।
    • ii) फादर एंजेल इंस्टीट्यूट, मुंबई द्वारा संचालित 04 वीटीसी को गोद लिया गया है। लगभग 532 प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षण देने पर कुल रु. 45 लाख प्रति वर्ष का खर्च आएगा।
  • सी) नेशनल हैंडीकैप फाइनन्स एंड डेव्लपमेंट कॉर्पोरेशन (एनएचएफ़डीसी) और सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ प्लास्टिक टेक्नोलोजी (सीआईपीईटी) के माध्यम से कौशल विकास:
    • i) रु. 133.68 लाख प्रति वर्ष के खर्च पर 1000 विकलांग (पीडबल्यूडी) उम्मीदवारों को देश के विभिन्न केन्द्रों में नेशनल हैंडीकैप फाइनन्स एंड डेव्लपमेंट कॉर्पोरेशन (एनएचएफ़डीसी) के माध्यम से कौशल विकास करने की ज़िम्मेदारी ली गई है।
    • ii) रु. 32 लाख प्रति वर्ष के खर्च पर 80 उम्मीदवारों को देश के विभिन्न केन्द्रों में सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ प्लास्टिक टेक्नोलोजी (सीआईपीईटी) के माध्यम से कौशल विकास करने का कार्य लिया गया है।
  • डी) विशेष रूप से विकलांग (पीडबल्यूडी) उम्मीदवारों के लिए आनंदवन, वरोरा में व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र का निर्माण किया जा रहा है और जिससे पीईडी छात्रों को लाभ होगा।
  • Skill Development – Skill India
  • Skill Development – Skill India
  • Skill Development – Skill India
दक्षिण गुजरात में स्वच्छ विद्यालय अभियान के अंतर्गत टाइलेट का निर्माण

एमडीएल ने दक्षिण गुजरात के वलसाड जिला में स्‍वच्‍छ विद्यालय मिशन के तहत 52 विद्यालयों में शौचालय खण्‍ड बनाने के लिए शिनाख्‍त की गई है। गुजरात सरकार द्वारा सर्वशिक्षा अभियान के तहत रूपांकित, चिह्नित एवं विर्निदिष्‍टता के अनुसार शौचालय बनाया गया था। इस परियोजना से विद्यालय के 3168 लड़कियों एवं 3607 लड़कों को लाभ होगा । 2015-16 में रू 2.09 करोड़ की लागत से कुल 54 शौचालय खण्‍डों को बनाया गया।

  • Toilets Under Swachh Vidyalya Mission In South Gujarat
  • Toilets Under Swachh Vidyalya Mission In South Gujarat
अलिमको के माध्‍यम से विभिन्‍न प्रकार के असहाय लोगों को सहायक सामग्री के लिए शिविर आयोजन

Distribution of assistive / rehabilitation aids - motorized tricycle, wheel chairs, hearing aids, crutches, walking sticks, MSIED kits, rotator and smart cane etc. to the differently able persons in Mumbai. CSR initiative will benefit about 430 children / persons with disability.

  • Toilets Under Swachh Vidyalya Mission In South Gujarat
  • Toilets Under Swachh Vidyalya Mission In South Gujarat
शिशु सशक्तिकरण

मई 2015 में एमडीएल ने सीएसआर गतिविधियों के लिए रू 69 लाख के खर्च से तीन वर्षो के लिए 10 बाल मित्र ग्राम की स्‍थापना बाल आश्रम ट्रस्‍ट की मदद से किया है। बाल आश्रम ट्रस्‍ट नोबल पुरस्कार से सम्मानित श्री कैलाश सत्‍यार्थी के सहयोग से स्‍थापित हुआ था। बाल मित्र ग्राम की स्‍थापना का मूल उद्देश्‍य निम्‍नलिखित है:

  • उपार्जन की गतिविधियों से बच्‍चों को छुटकारा दिलाना।
  • विद्यालयों में बच्‍चों का नामांकन करवाना।
  • बाल पंचायत का गठन।
  • ग्राम पंचायत द्वारा बाल पंचायत को मान्यता देना।

एनजीओ ने प्राथमिक रूप से 20 गाँवों का सर्वेक्षण किया। गाँव के विकास के अलावा बच्‍चों के हक को प्रभावित करने वाले विशेष तथ्‍यों की पहचान की। 20 गाँवों के सर्वेक्षण के अलावा 10 उन गाँवों को चुना गया है जहाँ बहुत बड़ी संख्‍या में बाल विवाह होता है और बच्‍चों ने स्‍कूल जाना छोड़ दिया है। जिन गाँव में बुनियादी सुविधाएं नहीं है ऐसे गाँवो को इस कार्यक्रम को लागू करने के लिए चुना गया है ।

निर्देश के सहयोग से आउटरिच कार्यक्रम

NIRDESH, The National Institute for Research & Development in Defence Shipbuilding has been set up by Department of Defence Production, Ministry of Defence as an autonomous Society to achieve complete self-reliance in warship and submarine construction. MDL is a founding member of the Society and a key stakeholder of the Institute as its major financial, technical and administrative contributor.

NIRDESH site at Calicut is located on the sea coast at the mouth of a river. This eco-sensitive site is surrounded by a thickly populated fishing village inhabited by poor fishermen. MDL has been carrying out CSR in the area around NIRDESH, since 2013-14. Total expenditure incurred in three years is Rs.24.5 Lakhs. Major areas taken up are as follows :-

  • a) Child Development by upgrading Anganwadi facilities and setting up children’s parks at Primary Schools.
  • b) Health care and hygiene by augmenting facilities at primary health centres.
  • c) Cleaning of water front areas through Swachh Bharat initiatives.
  • d) Environmental protection by upgradation of eco-sensitive projects such as sea turtle rehabilitation centre and mangrove forests.
  • Turtle tank before renewalTurtle tank before renewal
  • Renewed turtle tankRenewed turtle tank
पर्यावरण संरक्षण

एमडीएल ने सीएसआर गतिविधियों के अंर्तगत 500 सौर ऊर्जा स्‍ट्रीट लाइट उत्‍तर प्रदेश के भदोही जिला के हंडोई गांव में एवं अन्‍य 500 सौर ऊर्जा स्‍ट्रीट लाइट राजस्‍थान के पाली जिला के गाँव में लगाया है जिस पर रू 2.18 करोड़ की लागत आयी है ।

  • Turtle tank before renewal
Date of Posting Details Links
13.02.2017 सीएसआर बूकलेट 2016 अतिरिक्‍त जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें
03.01.2017 वित्तीय वर्ष 2015-16 के दौरान सीएसआर उपगत खर्च अतिरिक्‍त जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें
21.12.2016 एजिंसियों के एमपैनेलमेंट हेतु एक्स्प्रेशन ऑफ इन्टरेस्ट और एमडीएल सीएसआर परियोजना का निकट भविष्य में इम्पैक्ट एसेस्मेंट स्टडी में आयोजन हेतु निमंत्रण अतिरिक्‍त जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें
30.06.2015 वित्तीय वर्ष 2014-15 के दौरान सीएसआर उपगत खर्च अतिरिक्‍त जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें
30.06.2015 एमडीएल में स्वच्छ भारत अभियान अतिरिक्‍त जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें
17.02.2015 एमडीएल सीएसआर एवं एसडी नीति अतिरिक्‍त जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें
पृष्ट अपडेड की अंतिम तिथि 13.02.2017

समवाय कार्मिक

  • माझगाव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड,
    डॉकयार्ड रोड, माझगांव,
    मुंबई - ४०० ०१०, भारत
  • दूरभाष सं. :
    बोर्ड: २३७६ २०००, २३७६ ३०००,
    2376 4000

अन्य लिंक

आगंतुकों काउंटर
Copyright © एमडीएल. सर्वाधिकार सुरक्षित. Crafted & Cared by Web Design, SEO, Digital Marketing Company in Pune, India - IKF